News

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को सात विकेट से दी शिकस्त, सीरीज़ पर 2-1 से किया कब्जा

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टेस्ट सीरीज का तीसरा मैच शुरू हो गया है। यह मैच केप टाउन में खेला जा रहा है। जहां भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। इस मैच में कुछ फेरबदल किए गए हैं। विराट कोहली की वापसी हुई है तो वहीं, मोहम्मद सिराज की जगह उमेश यादव को टीम में शामिल किया गया है। यह मैच भारत के लिए काफी अहम है, देखना दिलचस्प होगा कि क्या भारतीय टीम इस मैच को जीतकर सीरीज पर कब्जा कर पाती है या नहीं? इस सीरीज़ में दोनों टीमें एक-एक की बराबरी पर हैं। आइए पहले दिन के खेल पर नज़र डालते हैं।  

अफ्रीकी गेंदबाजों ने भारतीय ओपनिंग जोड़ी को भेजा पवेलियन

केएल राहुल और मयंक अग्रवाल भारतीय टीम की ओपनिंग करने क्रीज पर आए। वहीं, पहला ओवर कगिसो रबाडा लेकर आए। लेकिन भारतीय सलामी जोड़ी ज्यादा देर तक नहीं टिक सकी और 31 के स्कोर पर भारत को केएल राहुल के रूप में पहला झटका लगा और उसके बाद 33 के स्कोर पर भारत को मयंक के रूप में दूसरा झटका लगा। इस तरह भारतीय ओपनर्स जल्द ही पवेलियन चले गए। अब सारा दारोमदार चेतेश्वर पुजारा और विराट कोहली के कंधों पर आ गया। दोनों खिलाड़ियों ने कुछ महत्वपूर्ण रन जोड़ते हुए पारी को आगे बढ़ाया। लंच ब्रेक तक भारत दो विकेट के नुकसान पर 75 रन बना लिए हैं। 

अर्धशतक से चूके चेतेश्वर पुजारा 

ब्रेक के बाद पुजारा और कोहली से बेहतरीन पारी की उम्मीद दिख रही थी, लेकिन 95 के स्कोर पर भारत ने पुजारा के रूप में तीसरा विकेट खो दिया। वह मार्को जानसेन की गेंद का शिकार हो गए और सिर्फ 43 रन बनाकर पवेलियन चले गए। इसके बाद कोहली का साथ देने मैदान पर अजिंक्य रहाणे आए। लेकिन रहाणे भी ज्यादा देर तक मैदान पर टिक नहीं सके और 12 गेंदों पर नौ रन बनाकर रबाडा का शिकार हो गए। वहीं, अब विराट कोहली और ऋषभ पंत क्रीज पर डटे हैं।

पहली पारी में 223 रनों पर ऑल आउट हुई भारतीय टीम 

क्रीज पर विराट और पंत डटे थे, इस बीच मार्को जानसेन ने भारतीय जोड़ी को तोड़कर रफ्तार पर ब्रेक लगा दी। ऋषभ पंत के रूप में भारत को पांचवां झटका लगा। वह अपने 27 रन के निजी स्कोर पर जानसेन का शिकार हो गए। इसके बाद मैदान अश्विन आए। वहीं, विराट कोहली 54 रन बनाकर क्रीज पर डटे थे। इसके बाद भारत को एक के बाद कई झटके लगते रहे। पहले रविचंद्रन अश्विन (2), शार्दुल ठाकुर (12), जसप्रीत बुमराह (0) और उसके बाद दूसरे छोर पर विराट कोहली 79 रन बनाकर खेल रहे थे, लेकिन वह रबाडा का शिकार हो गए। उसके बाद मोहम्मद शमी (7) के रूप में भारत का आखिरी विकेट गिरा। इस तरह भारतीय टीम पहली पारी में 223 रनों पर ऑल आउट हो गए।  

बुमराह ने भारतीय टीम को दिलाई शुरूआती सफलता

दक्षिण अफ्रीका को अपनी पहली पारी की शुरुआत में कप्तान डीन एल्गर के रूप में बड़ा झटका लगा। उन्हें जसप्रीत बुमराह ने चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच आउट कराया। वह 16 गेंदों पर सिर्फ 3 रन बनाकर पवेलियन लौटे। इस तरह दक्षिण अफ्रीका ने पहले दिन के खेल में एक विकेट के नुकसान पर 17 रन बनाए।  

बुमराह और उमेश की धारदार गेंदबाजी, पीटरसन और वैन डेर डुसेन ने किया डटकर सामना

बुमराह ने पहले दिन अपनी गेंदबाजी को जहां रोका था वहीं से शुरु किया। एक बार फिर से धारदार गेंदबाजी करते हुए दूसरे दिन के दूसरी ही गेंद पर उन्होंने एडेन मार्करम को पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। बुमराह के बाद उमेश यादव भी एक्शन में आए और उन्होंने नाइटवॉचमैन केशव महाराज को बोल्ड कर दिया। इसके बाद के इस सत्र में गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया लेकिन किस्मत उनके साथ नहीं रही। गेंद हवा में रह रही थी लेकिन फील्डर से दूर गिर रही थी, जिसके कारण कई कैच छूट गए। इसका श्रेय कुछ हद तक कीगन पीटरसन को जाता है, जिन्होंने धीरे-धीरे रन बनाते हुए भारतीय पेस अटैक का बेहतरीन तरीके से सामना किया और भारतीय बॉलर्स को विकेट से दूर रखने में कामयाब रहे।

शमी के झटके से बिखर गए प्रोटियाई बल्लेबाज

लंच के बाद रॉसी वेन डेर डुसेन जल्द ही पवेलियन लौट गए, लेकिन टेंबा बावुमा ने पीटरसन के साथ मिलकर भारतीय गेंदबाजों का बखूबी सामना किया। दोनों बल्लेबाज मिलकर रन बना रहे थे और ये भारतीय टीम के लिए सही नहीं था। इस बीच मोहम्मद शमी ने एक ही ओवर में बावुमा और नए बल्लेबाज काइल वेरेने को पवेलियन का रास्ता दिखा दिया और मैच को एक बार फिर से हमारी तरफ मोड़ दिया।

बुमराह ने मार्को जानसेन को अंत में सात रन के निजी स्कोर पर उन्हें क्लीन बोल्ड कर टीम इंडिया को मजबूत स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया।

बुमराह और शार्दुल ने अफ्रीकी बल्लबाजों को भेजा बैकफुट पर

टी ब्रेक के बाद बुमराह ने अपनी एक और बेहतरीन डिलीवरी पर पीटरसन को स्लिप में पुजारा के हाथों कैच कराया। इस डिलीवरी को पीटरसन बिल्कुल समझ नहीं सके थे। वहीं, दूसरी तरफ रबाडा के खेल को देखकर लग रहा था कि साउथ अफ्रीका की टीम छोटी बढ़त भी हासिल करने में कामयाब होगी। लेकिन शार्दुल ने रबाडा को एक धीमी गेंद में फंसाया और वो बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में बुमराह के हाथों डीप में लपक लिए गए। अब मेजबान टीम का एक विकेट ही बाकी था, जिसे लेकर बुमराह ने अपने पांच विकेट पूरे किए। बुमराह ने एनगिडी को आउट कर भारत को पहली पारी में 14 रन की बढ़त दिलाई। बता दें कि बुमराह ने इसी मैदान से अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी।

दूसरी पारी में भारत की खराब शुरुआत

भारत के दोनों ओपनिंग बैट्समैन महज 20 रन के स्कोर के अंदर ही आउट होकर पवेलियन लौट गए। रबाडा और जानसेन ने दोनों खिलाड़ियों को जल्दी-जल्दी आउट किया। हालांकि इसके बाद विराट कोहली और पुजारा ने संभलकर बल्लेबाजी की। दोनों ने ही टेस्ट फॉर्मेट के बेहतरीन बल्लेबाजी का एक उदाहरण पेश किया, जहां उन्होंने गेंद को छोड़ा, डिफेंड किया, इंतजार किया और कमजोर गेंदों को सही दिशा भी दी। दोनों खिलाड़ियों ने दिन का खेल खत्म होने तक भारत को कोई और नुकसान नहीं होने दिया और भारत की बढ़त को 70 रनों तक पहुंचा दिया।

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच तीसरे टेस्ट का दूसरा दिन भारतीय टीम के नाम रहा, लेकिन अभी इस मैच के परिणाम के बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है। हमारे खिलाड़ियों को तीसरे दिन फिर से एक नई शुरुआत करनी होगी ताकि हम मेजबान टीम को एक अचूक लक्ष्य दे सकें। अब तक हमारी टीम ने जैसा खेला है अगर वैसा ही खेल हम जारी रखते हैं तो जीत के लिए बिल्कुल सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन का खेल अपने निर्धारित समय पर शुरू हुआ। भारतीय टीम अपनी दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने के लिए क्रीज पर थी। विराट कोहली 14 और चेतेश्वर पुजारा 9 रन बनाकर क्रीज पर डटे थे।  

लेकिन तीसरे दिन की दूसरी ही गेंद पर चेतेश्वर पुजारा के रूप में भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा। वह मार्को जानसेन की गेंद पर पीटरसन को कैच थमा बैठे। इसके बाद अजिंक्य रहाणे भी रबाडा का शिकार हो गए। 

वहीं, विराट कोहली और ऋषभ पंत ने मिलकर पारी को आगे बढ़ाया। लंच ब्रेक तक भारत का स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 130 रन था। कोहली 28 और पंत 51 रन बनाकर क्रीज पर डटे थे। इस बीच विराट कोहली के रूप में भारत का पांचवां विकेट गिरा।  

वह अपने 29 रन के निजी स्कोर पर एनगिडी का शिकार हो गए। इसके बाद रविचंद्रन अश्विन क्रीज पर आए। लेकिन अश्विन भी ज्यादा देर तक टिक नहीं सके और सात रन बनाकर पवेलियन चले गए। वह लुंगी एनगिडी की गेंद पर कैच थमा बैठे।   

नए बल्लेबाज शार्दुल ठाकुर सिर्फ पांच रन बना पाए और एनगिडी की गेंद पर काइल वेरेने ने उनका कैच लपक लिया। उसके बाद उमेश यादव (0), मोहम्मद शमी (0) और जसप्रीत बुमराह सिर्फ 2 रन ही बना सके और जानसेन का शिकार हो गए। इस तरह भारतीय टीम ऑल आउट हो गई।  

वहीं, दूसरे छोर पर ऋषभ पंत ने अपने शानदार शतक की मदद से भारतीय टीम का स्कोर 212 पर पहुंचा दिया। इस मैच को जीतने के लिए दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को 212 रनों के स्कोर का पीछा करना होगा। 

पारी समाप्ति के बाद दक्षिण अफ्रीका की तरफ से डीन एल्गर और एडेन मार्कराम बल्लेबाजी करने क्रीज पर आए। वहीं, मोहम्मद शमी ने मार्कराम के रूप में पहला विकेट अपने नाम किया। वह 16 रन ही बना सके।  

उसके बाद जसप्रीत बुमराह ने डीन एल्गर को 30 रनों के निजी स्कोर पर ऋषभ पंत के हाथों कैच आउट कराया। तीसरे दिन के खेल की समाप्ति तक दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 2 विकेट के नुकसान पर 101 रन है। जहां कीगन पीटरसन 48 रन बनाकर क्रीज पर डटे हैं। 

चौथे दिन का खेल अपने निर्धारित समय पर शुरू हुआ। दक्षिण अफ्रीका दो विकेट के नुकसान पर 101 रन बनाकर मैदान पर थी। मैच शुरू होते ही कीगन पीटरसन ने मोहम्मद शमी की गेंद पर दो रन लेकर अपना अर्धशतक पूरा किया। 

32 ओवर की समाप्ति पर अफ्रीका का स्कोर दो विकेट के नुकसान पर 107 रन था। क्रीज पर रस्सी वेन डन डुसेन 3 और पीटरनस 51 रन बनाकर क्रीज पर थे।

लेकिन इस बीच पीटरसन को एक बड़ा जीवनदान मिला। चेतेश्वर पुजारा ने जसप्रीत बुमराह की गेंद पर पीटरसन का कैच छोड़ दिया और भारत को तीसरे विकेट का इंतजार और बढ़ गया। 

वहीं, शार्दुल ठाकुर ने भारत को तीसरी सफलता दिलाने में सफल रहे। उन्होंने पीटरसन को 82 के निजी स्कोर पर पवेलियन भेजा। दक्षिण अफ्रीका की टीम जीत की ओर आगे बढ़ रही थी। 

47 ओवर की समाप्ति के बाद उनका स्कोर तीन विकेट के नुकसान पर 155 रन था। डुसेन 18 और टेम्बा बावुमा (0) रन बनाकर क्रीज पर थे। 

लेकिन अंत में डुसेन और बावुमा की जोड़ी ने दक्षिण अफ्रीका को जीत दिलाने में सफल रही।.इस तरह दक्षिण अफ्रीका ने यह मुकाबला सात विकेट से जीत लिया। इसके साथ इस सीरीज़ को 2-1 से अपने नाम कर लिया। 

इस तीसरे टेस्ट में भारत की तरफ से जसप्रीत बुमराह ने 6 विकेट और मोहम्मद शमी ने 3 विकेट चटकाए। साथ ही बल्लेबाजी में विराट कोहली 108 और ऋषभ पंत ने 127 रन बनाए। 

वहीं, दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका के कीगन पीटरसन ने सबसे ज्यादा 154 रन बनाए। इसके साथ ही गेंदबाजी में कगिसो रबाडा ने 7 विकेट और मार्को जानसेन ने 7 विकेट अपने नाम किए। 

भारतीय बल्लेबाजों ने अपनी पहली पारी में 223 रन बनाए थे और दक्षिण अफ्रीका टीम सिर्फ 210 रन ही बना सकी थी। लेकिन दूसरी पारी में भारतीय टीम 198 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई थी। 

जिसके बाद दक्षिण अफ्रीका को 212 रनों का लक्ष्य मिला। जवाब में दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने सात विकेट से यह मुकाबला जीत लिया। 

वहीं, इस सीरीज़ का पहला मुकाबला भारत ने 113 रनों से जीता था। उसके बाद दक्षिण अफ्रीका ने दूसरा टेस्ट अपने नाम किया था और उसके बाद यह मुकाबला जीतकर सीरीज़ को 2-1 से अपने नाम कर लिया। 

इस पूरे सीरीज़ में भारतीय टीम की बल्लेबाजी की बात करें तो केएल राहुल, विराट कोहली और ऋषभ पंत को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज ज्यादा खास कमाल नहीं दिखा पाया।